हिंदी में समास क्या है? - हिंदी व्याकरण समास को जानने की ट्रिक देख।

By author image icon आशुतोष कुमार

दिनांक : February 11, 2022
समास क्या होता है? या समास किसे कहते है? या समाज से आप क्या समझते है?


 समास क्या होता है? या समास किसे कहते है? या समाज से आप क्या समझते है?

दो शब्दों के मेल से उत्पन्न सार्थक शब्द को ही  समास कहते है।
जैसे :-
पीताम्बर - यह शब्द दो शब्दों मिलकर बना है। पिता + अम्बर

गजानन - यह भी इन दो शब्दों का समाहार है। गज + आनन


समास के कितने भेद होते है?

समास के 6 भेद अथवा प्रकार है। जो निम्नलिखित है।

  1. अव्ययीभाव समास - जिस  समास का पहला पद अवयव और प्रधान दोनों हो, उसे अव्ययीभाव समास कहते है।   
    उदाहरण :-
    प्रतिकुल = प्रति + कुल 
    आ + जन्म = आजन्म
  2. तत्त पुरूष समास - इसमे दूसरा पद प्रधान होता है। और दोनों पक्षों के बीच मे कारक चिन्हों  का लोप हो जाता है। 
    उदाहरण :-
    राजकुमार = राजा का कुमार
    यशप्राप्त = यश को प्राप्त
  3.  कर्मधारय समास - इससमास में उत्तर (बाद) वाले पद की प्रधानता होती है। पूर्व पद और उत्तर पद के बीच में उपमान-उपमेय का सम्बंद होता है। जैसे :-
    चरणकमल = कमल के समान चरण 
    महापुरुष = महान है जो पुरूष
  4.  द्विगु समास -                   जिस समाज के पहला पद संख्यावाचक हो अथवा संख्या को सम्बोधित करता हो, 
    जैसे :-     
    त्रिकोण - तीन कोणों का समूह 
    तिरंगा :- तीन रंगों की समाहार
  5. द्वन्द समास -  इस समास के दोनों पद प्रधान होता है। और विग्रह करने पर और , अथवा जैसे शब्द लगता है।   जैसे :
    माता-पिता = माता और पिता 
    गुण-दोष = गुण और दोष
  6. बहुब्रीहि समास - इसमे किसी पद की प्रधानता नहीं होती है न पर्व नही उत्तर पद की। दोनों पद मिलकर किसी तीसरे पद की निर्माण करता है (सांकेतिक तौर पर) 
    जैसे :- 
    चतुर्भुज - चार हैं भुजाएं जिसकी अर्थात विष्णु 
    दसानन = दस है आनन जिसकी अर्थात रावण




No comments:

आप कैसे हों?